जाने मैगी में ऐसा क्या है, जो बहुत ज्यादा हानिकारक है?

0
47
file photo

मैगी मामले में सुप्रीम कोर्ट ने फिर एक्शन लेने का आदेश दिया है, इसमें ऐसा क्या है जो सेहत के लिए हानिकारक है? मैगी का जादू लोगों के बीच आज भी कायम है। इसको ऐसे देखा जा सकता है कि लोग नूडल्स को नूडल्स नहीं बल्कि मैगी कहते हैं। मैगी के स्‍वाद का आज तक कोई भी दूसरी बड़ी से बड़ी कंपनी मार्केट में मुकाबला नहीं कर पाई है। मैगी पिछले कुछ वर्षों में काफी चर्चा में रही, खासतौर से 2015 में, जब मैगी को बैन कर दिया गया था।

तो चलिए जानते हैं की ऐसा क्या है मैगी में। दरअसल fassai के द्वारा सीसा मिलाने को लेकर एक छूट दी जाती है जिस छूट का उल्लंघन करने पर बड़ी कार्यवाही का प्रावधान है। यह सीसा मैगी में भी मिलाया जाता है। नेस्ले कंपनी ने कहा कि मैगी में सीसा सही मात्रा में ही या छूट वाली मात्रा तक ही मिलाया गया है, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि सीसा मिलाने की जरूरत ही क्या है।

क्या करता है सीसा?
कहते हैं कि सीसा अगर सोने में मिल जाए तो सोने को भी पानी बना देता है। यह स्वास्थ्य के लिए काफी हानिकारक होता है, जिसका एक बार शरीर में जाने के बाद शरीर से बाहर निकलना असंभव होता है।

5 जून 2015 को फसाई ने मोनोसोडियम (एमएसजी) और सीसे की पुष्टि पाए जाने के बाद में मैगी के सभी तरह के पैकेट्स पर पाबंदी लगा दी थी। जिसके बाद से पूरी तरह से बाजार से मैगी को हटाया गया और मैगी बेचने पर कानूनी कार्यवाही का प्रावधान किया गया। स्विट्जरलैंड की नेस्ले कंपनी और सरकार के बीच मामला काफी गंभीर रूप से चला और अब फिर से इसी तरह की स्थिति के संकेत मिल रहे हैं।

सीसे को लेड पॉइजनिंग अर्थात जहर के रूप में माना जाता है इसकी शरीर में थोड़ी-सी भी मात्रा आ जाने से शारीरिक विकास अवरुद्ध हो सकता है। अगर मैगी में सीसे की पुष्टि पाई जाती है तो इस पर गंभीर कार्यवाही होनी ही चाहिए। क्योंकि खासतौर से भारत में बच्चे मैगी नूडल्स को खाते हैं बच्चे ही देश के भविष्य हैं। इसलिए यह भारत के विकास को रोकने वाला पदार्थ होगा।

[हरिशंकर]
आईआईएमसी छात्र

इसे भी पढ़े- मैगी को भरनी पड़ सकती है 640 करोड़ की क्षतिपूर्ति, जानें कारण

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here