जाको राखे साइयां मार सके ना कोई, -17 डिग्री तापमान के मलबे से निकला 11 महिने का जिंदा बच्चा

0
18

रूस के मैग्निटोगोस्र्क शहर से एक दिल दहलाने वाली खबर सामने आई है इस शहर में एक 10 मंजिला इमारत में विस्फोट हो गया है जिसकी वजह गैस लीक होना बताया जा रहा है जिसके कारण इमारत में विस्फोट हो गया इस विस्फोट की वजह से करीब 48 अपार्टमेंट को क्षति पहुंची है और सात लोगों की मौत हो गई इसके अलावा 36 लोगों के लापता होने की जानकारी मिली है.

कहा गया है की जाको राखे साइयां मार सके ना कोई ऐसा ही नजारा एक बार और देखने को मिला है रूस के मैग्निटोगोस्र्क शहर में हुए इस हादसे में ऐसा ही नजारा दिखा, जहां 35 घंटे मलबे में दबे रहने के बाद एक बच्चे को सुरक्षित बचा लिया गया है जिसकी  उम्र करीब 11 महीने बताई जा रही है जानकारी के लिए आपकों बतादें की यहां एक इमारत में विस्फोट हो गया था जिसके चलते इसका कुछ हिस्सा निचे की और गिर गया जिसकी वजह से इस मलबे में कई लोगों की दबे होने की सूचना मिली थी ऐसे मेें प्रशासन की कड़ी मशक्कत के बाद में करीब 35 घंटे बाद बच्चे को मलबे से जिंदा निकाला गया है.

यह हादसा सोमवार को हुआ था 10 मंजिला इमारत में विस्फोट का कारण गैस लीक होना बताया जा रहा है जिससे अब तक 48 फ्लैट को नुकसान पहुंचा है इस हादसे में अब तक 7 लोगों की मौत हो चुकी है और करीब 36 लोग अभी भी लापता बताए जा रहे हैजानकारी के लिए आपकों बतादें की इस शहर का तपमान इस समय 17 डिग्री सेल्सियस है, और बच्चा करीब 35 घंटे तक  सर्दी में मलबे में दबा रहा है जिसके कारण उसकी हालत थोड़ी खराब भी बताई जा रही है बच्चे के सिर पर भी चोट लगी है, प्रशासन द्वार बच्चे को बचाने की कोशिशें तब शुरू की गई थी, जब उसके रोने की आवाज सुनाई दी बच्चे की आवाज सुनते ही वहां मौजूद प्रशासन ने मोर्चा संभाल लिया और बच्चे को मलबे से सुरक्षित बाहर निकाला जो चमत्कार से कम नहीं है ऐसा नजारा देखकर बचाव दल के लोगों के आंखों में भी आंसू आ गए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here