आम आदमी पार्टी से कांग्रेस के गठबंधन के बढे आसार, शीला हो गयीं नाराज

0
7

 

नयी दिल्ली : लोकसभा चुनाव के लिए आम आदमी पार्टी एवं कांग्रेस में गठबंधन की संभावना एक बार फिर उत्पन्न हो गयी है. कांग्रेस का मानना है कि अगर वह आम आदमी पार्टी के साथ मिल कर लड़ेंगे तो दिल्ली की सभी सात सीट जीत सकते हैं. कांग्रेस के दिल्ली प्रभारी पीसी चाको ने कहा है कि पार्टी के हित में गठबंधन जरूरी है. उन्होंने कहा कि एमसीडी चुनाव में हम दोनों पार्टियों को 50 प्रतिशत वोट हासिल हुए थे, जबकि भाजपा को 35 प्रतिशत वोट मिले थे. उन्होंने कहा है कि भाजपा बड़ी दुश्मन है इसलिए गठंबंधन जरूरी है.

चाको ने यह भी कहा है कि दो से तीन दिनों में इस संबंध में फैसला हो जाएगा. मालूम हो कि पहले चरण में कांग्रेस आम आदमी पार्टी के गठबंधन के प्रस्ताव को खारिज कर चुकी है. इसके बाद आप पार्टी ने कांग्रेस व उसके नेतृत्व की आलोचना की थी. दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष शीला दीक्षित गठबंधन की समर्थक नहीं मानी जाती हैं.

यह कहा जा रहा है कि गठबंधन के लिए नये सिरे से सर्वे होने से शीला दीक्षित नाराज भी हो गयी हैं. उन्हें गठबंधन के लिए राजी करने का प्रयास जारी है. चाको ने कहा है कि दिल्ली कांग्रेस को गठबंधन का अनुभव नहीं है और हम शीला दीक्षित को इसके लिए मना लेंगे.

उन्होंने कहा है कि हमारा लक्ष्य भाजपा को सत्ता में आने से रोकना है. आप पार्टी ने कांग्रेस को पंजाब में भी गठबंधन का प्रस्ताव दिया था, जिसे वहां के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने खारिज कर दिया. इसके बाद अरविंद केजरीवाल ने हरियाणा में गठबंधन का प्रस्ताव रखा है.

बहरहाल, गठबंधन की राजनीति में दिल्ली में शीला दीक्षित अकेली पड़ती दिख रही हैं. उन्होंने अभी इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here