कुशवाहा ने थामा महागठबंधन का दामन, कांग्रेस दफ्तर पहुंचकर किया ऐलान

0
35

नयी दिल्ली :  लगभग महीने भर से चल रहे अटकलों के बीच आखिरकार आज राष्ट्रीय लोकदल समता पार्टी के नेता उपेंद्र कुशवाहा ने महागठबंधन का दामन थाम लिया. दिल्ली स्थित कांग्रेस के दफ्तर पहुंचकर कुशवाहा ने आज इस बात का ऐलान कर दिया.गुरुवार शाम आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल ने इसकी घोषणा की. उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (RLSP) के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा महागठबंधन में शामिल हो गये हैं. अहमद पटेल ने कहा, ‘बिहार में पहले से गठबंधन था और आज उसमें उपेंद्र कुशवाहा जी शामिल हुए हैं. हम उनका स्वागत करते हैं.’ इस मौके पर राजद नेता तेजस्वी यादव, बिहार के वरिष्ठ नेता शरद यादव हिन्दुस्तानी अवाम मोर्चा के जीतन राम मांझी भी मंच पर मौजूद थे.

इस मौके पर राजद नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि यह संविधान को बचाने की लड़ाई है. यह देश को बचाने की लड़ाई है. यह उनके खिलाफ लड़ाई है, जिन्होंने जनता को सिर्फ धोखा देने का काम किया है. महागठबंधन में शामिल होने के बाद पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि आज से हमारी पार्टी यूपीए का हिस्सा बन गई है. मैं यहां बिहार की जनता के आशीर्वाद के कारण उपस्थित हुआ है. उन्होंने कहा कि एनडीए छोड़ने का कारण यह था कि मेरा वहां अपमान हो रहा था. नीतीश कुमार ने मुझे नीच कहकर संबोधित किया. कुशवाहा ने राहुल गांधी और लालू यादल का आभार भी जताया. उन्होंने कहा कि इन दोनों नेताओं ने उदारता दिखाई. बिहार कांग्रेस के प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने बिहार में महागठबंधन के बीच सीट शेयरिंग को लेकर कहा कि सही वक्त पर सही फैसला होगा. उन्होंने कहा कि यह गठबंधन विचारधारा से जुड़ा हुआ गठबंधन है.

रालोसपा ने 2014 का लोकसभा चुनाव भाजपा के साथ गठबंधन करके लड़ा था और तीन सीटों पर जीत हासिल की थी. यूपीए का दामन थामने के बाद उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि एनडीए में उनका अपमान हो रहा था. कांग्रेस अध्यक्ष की तारीफ करते हुए उन्होंने कहा कि राहुल गांधी की कथनी और करनी में कोई अंतर नहीं है. उन्होंने कर्जमाफी का वादा किया था, जिसे कर दिखाया. हाल तक मोदी सरकार में मंत्री रहे कुशवाहा ने प्रधानमंत्री मोदी पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए कहा कि उनकी कथनी और करनी में अंतर है. आरएलएसपी प्रमुख ने कहा, ‘प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था कि बिहार के लोगों को पढ़ाई, दवाई और कमाई के लिए राज्य से बाहर नहीं जाना पड़ेगा….लेकिन ऐसा नहीं हुआ.’ उन्होंने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर आरएलएसपी को कमजोर करने की कोशिश करने का भी आरोप लगाया. उपेंद्र कुशवाहा ने ऐलान किया कि 2 फरवरी को उनकी पार्टी पटना में आक्रोश मार्च निकालेगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here