आरडी बर्मन : वह संगीतकार जिसे हमेशा नया करने की भूख थी

0
79

राहुल देव बर्मन के गुजरे हुए आज 25 साल हो गये. इन 25 सालों में गुजरते वक्त के साथ आरडी बर्मन की कमी और ज्यादा महसूस की जा रही है. फिल्मों में जब राजेश खन्ना की एंट्री हुई तो उनके ज्यादातर गाने किशोर कुमार गाये करते थे. इस दौरान ही फिल्मों में आरडी बर्मन की संगीत का जादुई असर शुरु होने लगा. आरडी बर्मन का संगीत पश्चिम से प्रभावित रहता था और वह नये प्रयोग के लिए जाने जाते थे. आरडी बर्मन के पिता सचिन देव बर्मन की गिनती देश के महान संगीतकारों में होती थी. उन्होंने फिल्मी गानों में लोकगीत को बढ़ावा दिया. बचपन से ही आरडी बर्मन के घर में संगीतमय माहौल था. माता – पिता दोनों ही संगीत से जुड़े थे. लिहाजा आरडी बर्मन कहां पीछे रहते.

आरडी बर्मन ( पंचम दा ) स्वभाव से बहुत मूडी थे. आशा भोसले बताती हैं कि उनका मन होता तो वह चाय में पानी मिला दिया करते थे. पंचम दा अमेरिकन, अफ्रीकन पूरी दुनिया के संगीतकारों को अपने दिमाग में रखते थे. हमेशा वह नया करना चाहते थे. उनकी यह प्रयोगधर्मिता की वजह से उनके म्यूजिक में हमेशा एक ताजगी रहती है. उन्होंने ‘मोनिका ओ माय डार्लिंग’ जैसे गाने रचे. ‘चुरा लिया जो है दिल को नजर नहीं चुराना मुझे’, ‘जाने क्या बात है, नींद नहीं आती, बड़ी लंबी रात है’, आरडी बर्मन की यह वर्सेटाइल सिंगिग ही कहिए कि एक तरफ उन्होंने 1942 लव स्टोरी की ‘ कुछ न कहो’ जैसे गाने गाये तो आइटम सांग सरीखा सांग भी कंपोज किया.

उनके वर्सेटाइल होने के पीछे उनकी ट्रेनिंग का बहुत बड़ा योगदान था. पिता बहुत बड़े संगीतकार थे फिर भी आरडी बर्मन ने उस्ताद अली अकबार खान से सरोद और समता प्रसाद से तबला सीखा. जब वह फिल्मों में संगीत देना शुरू किये तो उन्होंने पिता के अस्सिटेंट संगीतकार के रूप में शुरुआत की. अपने पिता के कंपोजिंग में कभी वह हार्मोनियम को कभी माउथ ओर्गेन बजाया करते थे. राजकपूर पर फिल्माया गया मशहूर गाना – है अपना दिल तो अवारा में माउथ ओर्गेन बजाने का काम पंचम दा ने ही किया था.

 

राहुल देव बर्मन की पहली फिल्म बतौर म्यूजिक डायरेक्टर ‘छोटे नवाब’ थी. लेकिन उन्हें प्रसिद्धी ‘तीसरी मंजिल’ फिल्म से मिली. बर्मन ने फिर ‘बहारों के सपने’, ‘प्यार का मौसम’, ‘यादों की बारात’ जैसी फिल्मों में संगीत दिया. फिल्म अराधना का म्यूजिक जब उन्होंने दिया तो उसके गाने इतने हिट हुए कि फिल्म इंडस्ट्री में तहलका मच गया. ‘मेरे सपनों की रानी’ और ‘कोरा कागज था मन मेरा ‘इन दो गानों के बारे में कहा जाता है कि आर डी गाना इस गाने से छा गये. हालांकि अराधना फिल्म के गाने के बारे में कहा जाता है कि क्रेडिट एसडी बर्मन के नाम गया लेकिन इसकी म्यूजिक पंचम दा ने ही तैयार किया था.

!!पवन !!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here