पाकिस्तान में 11 चीनी नागरिकों को फर्जी शादी के केस में जेल

0
7

लाहौर : पाकिस्तान और चीन के बीच मित्रता किसी से छिपी नहीं है, लेकिन दोनों राष्ट्रों के बीच गहरी दोस्ती के साथ – साथ एक नया विवाद भी जन्म ले लिया है. दरअसल पाकिस्तान में इन दिनों फर्जी शादी का मामला गरमाया हुआ है.

लाहौर की एक अदालत ने चीन के 11 नागरिकों को जेल भेज दिया है और फेडरल जांच एजेंसी को इस मामले की जांच के लिए कहा है.
बताया जा रहा है कि चीन के इन नागरिकों पर आरोप है कि ये पाकिस्तानी लड़कियों से फर्जी शादी कर चीन ले जाते थे और वहां उन्हें वेश्यावृति के पेशे में धकेल दिया जाता था.

एफआईए ने घोषणा की कि उसने वेश्यावृत्ति और अवैध अंग कारोबार में कथित रूप से लिप्त एक अंतरराष्ट्रीय गिरोह के खिलाफ जांच के सिलसिले में 11 चीनी नागरिकों को हिरासत में लिया है. इस्लामाबाद में चीनी दूतावास ने बताया कि उसने मीडिया में आ रही खबरों को देखा है और इसके लिये पाकिस्तान अपने घरेलू कानून एवं नियमों के मुताबिक कार्रवाई कर रहा है.
रिपोर्ट्स के अनुसार, पाकिस्तानी सरकार ने भी कुछ ऐसे फर्जी मैचमेकिंग सेंटरों पर कार्रवाई की है. आम तौर पर ऐसे मैचमेकिंग सेंटरों के जरिए पाकिस्तान की गरीब ईसाई लड़कियों को शिकार बनाया जाता है.

पाकिस्तान में काम करनेवाले चीन के लड़के इन गरीब लड़कियों से शादी करते हैं. कई बार ऐसी शादी के लिए फर्जी दस्तावेज भी तैयार किए जाते हैं जो इन लड़कों को ईसाई या मुस्लिम बताते हैं.

गल्फ न्यूज में प्रकाशित खबर के अनुसार, ‘आम तौर पर ऐसे दूल्हे गरीब ईसाई और कई बार मुस्लिम लड़कियों को शिकार बनाते हैं. इन लड़कियों को अच्छे भविष्य और आरामदेह जिंदगी का सपना दिखाकर और कुछ पैसों का ऑफर देकर उन्हें शिकार बनाया जाता है. कई बार इन लड़कियों को देह व्यापार और मानव तस्करी के दलदल में भी धकेल दिया जाता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here