हत्‍या कर राम जानकी मंदिर के मुख्‍य गेट पर लटका दी पुजारी की लाश

0
24
file photo

नई दिल्‍ली। उत्‍तर प्रदेश के रायबरेली में हत्‍यारों ने राम जानकी मंदिर के पुजारी की हत्‍या कर दी। हत्‍या के बाद हत्‍यारों ने पुजारी की लाश को मंदिर के मुख्‍य गेट पर लटका दिया। मंदिर के पुजारी की हत्‍या की खबर सुनकर हजारों लोगों की भीड़ वहां उमड़ पड़ी और मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ को बुलाने की मांग करने लगी। मौके पर पहुंची पुलिस को भीड़ ने पुजारी की लाश को उठाने नहीं दिया। इस दौरान पुलिस और प्रदर्शनकारियों में कई बार झड़प हुई। मामले की गंभीरता को देखते हुए कमिश्‍नर और आईजी भी वहां पहुंचे। हत्‍यारों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का आश्‍वासन मिलने के बाद प्रदर्शनकारियों ने लाश को उतारने दिया। इसके बाद पुलिस ने शव को पोस्‍टमार्टम के लिए भेज दिया। हत्‍या का कारण भूमि विवाद बताया जा रहा है। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने एक कॉलेज पर हमला कर उसमें आगजनी की कोशिश की। इस कॉलेज के मालिक ने मंदिर की बेशकीमती जमीन पर कब्‍जा जमा रखा है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार मंगलवार रात हत्‍यारों ने ऊंचाहार कोतवाली क्षेत्र में स्थित राम जानकी मंदिर में घुस कर मुख्‍य पुजारी बाबा प्रेमदास की गला दबाकर हत्‍या कर दी। इसके बाद हत्‍यारों ने इटौरा बुजुर्ग मजरे के बाबा का पुरवा गांव में स्थित इस मंदिर के मुख्‍य गेट पर बाबा प्रेमदास की लाश को टांग दिया। बुधवार सुबह मंदिर का कार्यभार संभालने वाले पुजारी की हत्‍या की खबर सुनकर हजारों लोग वहां एकत्र हो गए। डीएम और एसपी भी मौके पर पहुंचे। परंतु वहां मौजूद भीड़ बेकाबू होने लगी। जिसके बाद और फोर्स को बुलाया गया। पुलिस ने लाश को उतारने का प्रयास किया तो उसकी झड़प प्रदर्शनकारियों से हो गई। मामले की गंभीरता को देखते हुए कमिश्‍नर अनिल गर्ग और आईजी रेंज लखनऊ सुजीत पांडेय भी मौके पर पहुंचे। वहां पहुंचे अमे‍ठी के सगरा पीठाधीश्‍वर बाल योगी मौनी महाराज ने मुख्‍यमंत्री को बुलाने की मांग रखी।

इस बीच, भीड़ ने पंचशील डिग्री कॉलेज में जमकर उपद्रव मचाया। आरोपी बीएन मौर्या के कॉलेज में तोड़फोड़ की गई और दरवाजों को आग लगा दी। भीड़ को काबू पाने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज तक करना पड़ गया। जिसमें कई प्रदर्शनकारी घायल हो गए। बाद में पुलिस ने हत्‍यारों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का आश्‍वासन दिया, जिसके बाद पुजारी की लाश को उतरा जा सका। वहीं, मौनी महाराज की शिकायत पर मौर्या समेत चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है।
ये मंदिर लखनऊ-प्रयागराज हाइवे पर स्थित है।

बताया जाता है कि मंदिर की बेशकीमती 11 बीघे जमीन मौर्या ने कब्‍जा जमा रखा है। मंदिर के पुजारियों और मौर्या के बीच लगातार विवाद कायम है। महंत बाबा सत्‍यनारयाण दास की मौत भी स‍ंदिग्‍ध परिस्थितियों में हुई थे। बाबा मंदिर के महंत थे। बाबा प्रेमदास को मौर्या के खिलाफ मामला दर्ज करवाए जाने के वजह से लगातार धमकियां मिल रही थी। जमीन विवाद को देखते हुए हाल ही में बाबा प्रेमदास ने मौनी महाराज को अपना उत्‍तराधिकारी घोषित कर दिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here