राफेल पर रक्षामंत्री : हमारा कोई ‘खानदान’ नहीं है, हमसभी अपनी मेहनत से यहां तक पहुंचे हैं

0
7
लोकसभा में राफेल पर राहुल गांधी को जवाब देतीं रक्षामंत्री।

–ऑडिट ऑफ कैपिटल एक्वीजीसन मामले में कैग सबकुछ देख रहा है। इसमें 36 रफाल की खरीद मामले में जो एयर सिस्टम उसमें इक्पिप्ड हुए हैं, उसकी भी जांच कर रहा है। इस संबंध में दिसंबर 2018 में ही कैग की ऑडिट रिपोर्ट को रक्षा मंत्रालय ने रिसीव कर लिया है, हम उसका जवाब देने की तैयारी कर रहे हैं, जल्द ही भेज दिया जाएगा जवाब।

–रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा- हमने सुप्रीम कोर्ट को कोई गलत जानकारी नहीं दी। उसे मिसलीड नहीं किया है।

–दाम का खुलासा करना सौदे की प्रक्रिया और शर्तों का उल्लंघन होता लेकिन कांग्रेस के लोग इस बात को समझ नहीं रहे हैं।
–सुप्रीम कोर्ट ने भी इस बात को माना कि संवेदनशीलता के चलते एयरक्राप्ट के दाम को सार्वजनिक करना ठीक नहीं हैः।
–स्पीकर सुमित्रा महाजन ने कहा है कि यह समय प्राइवेट मेंबर बिजनस का है लेकिन अगर आप लोग सहमत हों तो इस मसले पर बहस को आज खत्म कर लेंदे हैं।

नयी दिल्ली : लोकसभा में आज फिर राफेल पर जोरदार बहस हो रही है. कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर राफेल को लेकर सुप्रीम कोर्ट में गलत हलफनामा पेश करने का आरोप लगाया है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भाजपा पर हमला बोलते हुए कहा कि अरुण जेटली ने लंबा भाषण दिया, मुझे गाली दी, लेकिन जवाब नहीं दिया. पीएम खुद इस मुद्दे से भाग खड़े हुए. क्या नई डील पर हिंदुस्तान की एयरफोर्स, डिफेंस मिनिस्ट्री के लोगों को आपत्ति थी या नहीं क्योंकि एक फाइल में लिखा है कि डिफेंस मिनिस्ट्री ने डील पर आपत्ति जताई थी. अनिल अंबानी ने इस डील से 30 हजार करोड़ रुपये बनाए? अनिल अंबानी को कॉन्ट्रैक्ट किसने दिलवाया? फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति ओलांद ने कहा कि पीएम मोदी ने दिलवाया.

लोकसभा में कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने राफेल डील पर जेपीसी की मांग को दोहराते हुए कहा कि हम पहले ही कह रहे थे कि इस बात का फैसला सु्प्रीम कोर्ट में नहीं होगा. इसका फैसला जनता की अदालत यानी संसद में ही होगा. ये लोग कोर्ट के फैसले की आड़ में अपनी जिम्मेदारी से भाग रहे हैं. बीजेपी सरकार अपनी गलती छुपाने के लिए सुप्रीम कोर्ट को अंग्रेजी पढ़ा रही है. कतर और मिस्र को कम दामों में विमान बेचा गया जबकि हमें महंगे दाम पर दिया गया. आखिर इसका कारण क्या है? बेंचमार्क प्राइस पीएम ने क्यों बढ़ाया इसका जवाब दिया जाना चाहिए. राफेल मुद्दे पर देश को झूठी जानकारी किसने दी यह साफ होना चाहिए? आखिर पीएम चर्चा से क्यों भाग रहे हैं. रिलायंस के डेटा के आधार पर ही हम कह रहे हैं कि यह 1 लाख 30 हजार करोड़ रुपये का घोटाला है. हम बीजेपी के प्रिय लोगों के डेटा के आधार पर ही ये बाते कह रहे हैं. बात को घुमाने के लिए ये कहते हैं कि आपका मैथमेटिक्स गलत है.

भाजपा सांसद अनुराग ठाकुर ने कहा कि बहस की तैयारी में कांग्रेस को 20 दिन से ज्यादा का समय लग गया. विपक्ष ने चर्चा का नेतृत्व करने के लिए जिस नेता को आगे लाया, वह एक कंफ्यूज्ड और करप्ट नेता थे, जो जमानत पर बाहर हैं. वो 20 मिनट मे 20 झूठ बोलकर चले गए. कांग्रेस ने देश का हित पीछे रखकर परिवार के हित को आगे रखा जिसका नतीजा चीन से लड़ाई के दौरान भुगतना पड़ा. इनकी सरकार में जीप घोटाले से लेकर अगुस्टा वेस्टलैंड घोटाला हुआ और ये रक्षा सौदों पर सवाल करते हैंः

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here