फुल्‍का ने कहा, अन्‍ना आंदोलन का राजनीतिक दल में बदलना सही नहीं था

0
8
file photo source: ANI

नई दिल्‍ली। विधायक एचएस फुल्‍का ने शुक्रवार को आम आदमी पार्टी के गठन पर सवालिया निशान लगाते हुए कहा कि अन्‍ना आंदोलन का राजनीतिक दल में बदलना सही पैसला नहीं था। उन्‍होंने कहा कि आज देश को एक बार फि‍र अन्‍ना आंदोलन की जरूरत है। उन्‍होंने कहा कि वे राजनीति छोड़ने के बाद अब एक संगठन बनाएंगे।

आप से इस्‍तीफा देने वाले पार्टी के वरिष्‍ठ नेता फुल्‍का ने प्रेस क्‍लब में आयोजित संवाददाता सम्‍मेलन में कहा कि 8 साल पहले अन्‍ना आंदोलन के समय उससे बहुत से सामाजिक कार्यकर्ता जुड़े थे। जो कि एक बहुत बड़ी ताकत बनकर उभरा था। उस समय को कोई भी राजनीतिक दल उसकी अनदेखी नहीं कर सकता था। आज देश को एक बार फिर वैसे ही आंदोलन की जरूरत है। ऐसे आंदोलनकारियों की जरूरत है जो सच को सच और गलत को गलत कहने की ताकत रखता हो। उन्‍होंने कहा कि अन्‍ना आंदोलन से जुड़े बहुत से सामाजिक कार्यकर्ता अब राजनीति से बाहर आ चुके हैं। ऐसे में एक बार फिर वैसा ही आंदोलन खड़ा किया जा सकता है।

उच्‍चतम न्‍यायालय के वरिष्‍ठ अधिवक्‍ता फुल्‍का ने कहा कि 5 साल के राजनीतिक सफर में मुझे बहुत कुछ सीखने को मिला। वो अनुभव बताता है कि अन्‍ना आंदोलन को राजनीतिक दल में बदलना सही फैसला नहीं था। उन्‍होंने कहा कि इस्‍तीफ के बाद वे सामाजिक क्षेत्र में काम करेंगे। इसके लिए संगठन की शुरूआत वे पंजाब से करेंगे। उनका सबसे पहला काम पंजाब में नशा मुक्ति अभियान चलाना है।

कांग्रेस-आप के संभावित गठबंधन पर सीधी टिप्‍पणी न करते हुए फुल्‍का ने कहा कि 1984 के सिख दंगों के मुद्दे पर गैर कांग्रेसी पार्टियों को एक साथ आना चाहिए। पिछले दो दशकों से फुल्‍का सिख दंगों के पीड़ितों की लड़ाई सड़क से लेकर अदालत तक लड़ रहे हैं। फुल्‍का ने कल एक ट्वीट के माध्‍यम से आप पार्टी से अपने इस्‍तीफे की घोषणा की थी।

इसे भी पढ़े- AAP को झटका, फुल्का ने दिया इस्‍तीफा

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here