चीन से द्विपक्षीय वार्ता में पाक के आतंकवाद पर पीएम मोदी की खरी-खरी, शी इस साल आएंगे भारत

0
3

 

प्रधानमंत्री मोदी एवं चीन के राष्ट्रपति शी फिर करेंगे अनौपचारिक वार्ता

बिश्केक : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किर्गिस्तान की राजधानी बिश्केक में एसइओ सम्मिट से इतर चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग से द्विपक्षीय वार्ता की. दोनों देशों के बीच इस दौरान पाकिस्तान और आतंकवाद पर भी वार्ता हुई. भारत ने इस दौरान इस बात पर जोर दिया कि आतंकवाद के खिलाफ पाकिस्तान द्वारा कड़े कदम उठाने की जरूरत है, लेकिन ऐसा होता नहीं दिख रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत चाहता है कि पाकिस्तान आतंकवाद के खिलाफ कठोर कार्रवाई करे.

दोनों नेताओं की इस बैठक की जानकारी देते हुए विदेश सचिव विजय गोखले ने बताया कि दोनों देश वुहान सम्मिट की सफलता को लेकर सहमत हुए. विजय गोखले ने बताया कि पीएम मोदी और राष्ट्रपति शी विशेष तौर पर इस बात के लिए सहमत हुए हैं कि दोनों देशों को इन संबंधों से और बेहतर उम्मीदें हैं.

वार्ता के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राश्ट्रपति शी को इस साल अनौपचारिक वार्ता के लिए भारत आने का न्यौता दिया, जिसे उन्होंने स्वीकार कर लिया. चीन के राश्ट्रपति शी प्रधानमंत्री मोदी से अनौपचारिक वार्ता के लिए इसी साल भारत की यात्रा पर आएंगे. विदेश सचिव विजय गोखले ने कहा कि इसके लिए समय व स्थान तय करने के लिए दोनों पक्ष संपर्क में हैं और इसे तय किए जाने के बाद इसका एलान किया जाएगा. मालूम हो कि प्रधानमंत्री मोदी भी अनौपचारिक वार्ता के जा चुके हैं.

विदेश सचिव के अनुसार, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि दोनों देशों के बीच बेहतर हो रहे संबंधों का ही परिणाम है कि लंबे समय से पेंडिंग पड़े मुद्दों को सुलझा लिया गया है. इसमें बैंक आॅफ चाइना की भारत में शाखा खोलने एवं मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने जैसे मुद्दे हैं.


Chaina
विजय गोखले ने कहा कि इस साल भारत एवं चीन के कूटनीतिक संबंधों के 70 साल पूरे हो रहे हैं. ऐसे में दोनों देशों के बीच 70 कार्यक्रम करने का प्रस्ताव रखा गया है. इसमें 35 भारत में और 35 चीन में होंगे.

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने दूसरे कार्यकाल में चीन के राश्ट्रपति से पहली मुलाकात को ट्विटर पर सफल करार दिया है. उन्होंने लिखा कि राश्ट्रपति शी से बेहद सफल मुलाकात हुई. हमारी बातचीत में भारत-चीन संबंधों पर गंभीर चर्चा हुई. उन्होंने लिखा दोनों देशों के आर्थिक और सांस्कृतिक संबंधों को मजबूत करने का प्रयास किया जाएगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here