मध्यप्रदेश में राजनाथ, राजस्थान में जेटली, छत्तीसगढ में थावरचंद की मौजूदगी में चुने जायेंगे भाजपा के नेता

0
17

 

नयी दिल्ली : भारतीय जनता पार्टी ने तीन राज्यों में पार्टी विधायक दल का नेता चुनने के लिए केंद्रीय पर्यवेक्षक भेजने का निर्णय लिया है. पार्टी संसदीय बोर्ड की आज शाम हुई बैठक में निर्णय लिया कि तीनों राज्य में हाल में हुए विधानसभा चुनाव के बाद नेता चुनने की प्रक्रिया विधायक दल की बैठक में पूरी की जाएगा और इसमें बतौर पर्यवेक्षक केंद्रीय नेता मौजूद रहेंगे. संसदीय बोर्ड की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शामिल हुए.

संसदीय बोर्ड की बैठक के बाद प्रेस कान्फ्रेंस में इसकी जानकारी देते हुए पार्टी महासचिव जेपी नड्डा ने कहा कि मध्यप्रदेश में नेता चुन जाने के लिए केंद्रीय पर्यवेक्षक राजनाथ सिंह एवं विनय सहस्त्रबुद्धे होंगे, जबकि राजस्थान में नेता चुनने की प्रक्रिया में पर्यवेक्षक अरुण जेटली और अविनाश राय खन्ना होंगे. वहीं, छत्तीसगढ में नेता चुने जाने के लिए पर्यवेक्षक थावर चंद गहलौत व अनिल जैन होंगे.

ये नेता उक्त राज्यों के दौरे पर निकट भविष्य में जाएंगे और उनकी मौजूदगी में नेता चुने जाने की प्रक्रिया पूरी की जाएगी. उन्होंने कहा कि विधायक दल की बैठक की तारीख राज्य इकाई से चर्चा के बाद तय की जाएगी.

तीनों राज्यों में भाजपा पूर्व में सरकार में थी, लेकिन नवंबर-दिसंबर में पूरी हुई चुनाव प्रक्रिया में पार्टी ने कांग्रेस के हाथों अपनी सत्ता गंवा दी. पार्टी के लिए हाल के सालों में यह सबसे बड़ा झटका रहा है. पार्टी के पास तीनों राज्यों में अपने पूर्व मुख्यमंत्रियों को नेता चुनने का विकल्प हैं या फिर नये नेतृत्व को पनपने देने के लिए नये शख्स को आगे करने की रणनीति पर पार्टी बढ सकती थी. मध्यप्रदेश में अबतक शिवराज सिंह चौहान व छत्तीसगढ में डाॅ रमन सिंह पार्टी के निर्विवाद चेहरे रहे हैं. वहीं, राजस्थान में तमाम विरोध व असहमतियों के बावजूद नेतृत्व हमेशा वसुंधरा राजे के हाथ में ही रहा. यह देखना दिलचस्प होगा कि पार्टी इन्हें राज्य में ही सक्रिय रहने देती है या फिर केंद्रीय टीम में शामिल करती है. हालांकि शिवराज सिंह चौहान पूर्व में केंद्र में जाने से इनकार कर चुके हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here