कोलकाता मेें हिंसा का भाजपा ने किया मौन विरोध, अमित शाह ने प्रेस कान्फ्रेंस में कही ऐसी बात

0
3

 

नयी दिल्ली : भारतीय जनता पार्टी ने मंगलवार शाम कोलकाता में अपने पार्टी अध्यक्ष अमित शाह की रैली में हिंसा एवं बवाल के खिलाफ आज मौन प्रदर्शन किया. दिल्ली के जंतर-मंतर पर भाजपा कार्यकर्ता आज मौन धरने पर बैठे. उनके हाथों में तख्तियां थीं, जिस पर लिखा था सेव बंगाल, सेव डेमोक्रेसी. इस प्रदर्शन में केंद्रीय मंत्री नीर्मला सीतारमण, डाॅ हर्षवर्द्धन, विजय गोयल सहित कई अन्य लोग शामिल हुए. वहीं, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने एक प्रेस कान्फ्रेंस कर मीडिया के सामने अपना पक्ष रखा.

अमित शाह ने हिंसा के लिए तृणमूल कांग्रेस को जिम्मेवार बताया. उन्होंने कहा कि अगर मौके पर सीआरपीएफ के जवान तैनात नहीं होते तो वे वहां से बच कर नहीं निकल पाते. अमित शाह ने कहा कि रोड शो के दौरान तृणमूल कार्यकर्ताओं ने तीन बार हमले किए. अमित शाह ने कहा कि और किसी राज्य में हिंसा नहीं होती. ओडिशा में नवीन बाबू की सरकार है, वहां ऐसी स्थिति पैदा नहीं होती.

उन्होंने कहा कि काॅलेज का गेट बंद था, उनके समर्थक रोड पर थे तो फिर किसने गेट खोला. उन्होंने आरोप लगाया कि उनके लोग अंदर थे और ईश्वर चंद विद्यासागर की मूर्ति को अंदर ही तोड़ा गया. अमित शाह ने चुनाव आयोग पर सवाल उठाते कहा कि अबतक ममता बनर्जी के चुनाव प्रचार पर रोक क्यों नहीं लगायी गयी है. अमित शाह ने कहा कि संभावति हार को देखते हुए ममता बनर्जी बौखला गयी हैं.

उधर, कोलकाता में आज सीपीएम कार्यकर्ताओं ने ईश्वर चंद विद्यासागर की मूर्ति तोड़े जाने का विरोध किया और इसके लिए जुलूस निकाला. पार्टी ने आरोप लगाया कि इसके पीछे टीएमसी एवं भाजपा की मिलीभगत है. सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी ने एक जांच करने की मांग की है.

ममता बनर्जी भी आज इसके विरोध में पदयात्रा करने वाली हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here