2019 में भारतीय अर्थव्यवस्था को इन चुनौतियों से निपटने के लिए रघुराम राजन ने दी यह सलाह

0
8

नयी दिल्ली : रघुराम राजन ने भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर भारत सरकार को कुछ मामले में सचेत किया है. उन्होंने कहा कि अतीत में सरकार द्वारा समय-समय पर हस्तक्षेप के बावजूद, देश में मौजूदा समय में तीन सेक्टर संकट से गुजर रहे हैं, जिनमें कृषि, बिजली और बैंकिंग शामिल हैं और कभी-कभी इन हस्तक्षेपों के कारण भी संकट बढ़ा है.

समय-समय पर निर्यात पर पाबंदी और खाद्य मुद्रास्फीति को कम रखने के लिए भारी मात्रा में आयात ने व्यापार की शर्तों को कृषि के खिलाफ कर दिया है, जबकि इससे किसानों की प्लान करने की क्षमता घटी है. किसानों को सस्ती या मुफ्त बिजली से जलस्तर घटकर चरम पर पहुंच गया है. अतीत में सरकार द्वारा समय-समय पर हस्तक्षेप के बावजूद, देश में मौजूदा समय में तीन सेक्टर संकट से गुजर रहे हैं, जिनमें कृषि, बिजली और बैंकिंग शामिल हैं और कभी-कभी इन हस्तक्षेपों के कारण भी संकट बढ़ा है. उदाहरण के लिए, समय-समय पर निर्यात पर पाबंदी और खाद्य मुद्रास्फीति को कम रखने के लिए भारी मात्रा में आयात ने व्यापार की शर्तों को कृषि के खिलाफ कर दिया है, जबकि इससे किसानों की प्लान करने की क्षमता घटी है. किसानों को सस्ती या मुफ्त बिजली से जलस्तर घटकर चरम पर पहुंच गया है.

किसानों को अब मदद की जरूरत है. हालांकि ऋणमाफी, बिना पर्याप्त खरीद व्यवस्था के एमएसपी में बढ़ोतरी और इनपुट प्राइस सब्सिडी ने हालत को और बदतर किया है. ऐसे में सरकार को नई प्रौद्योगिकी और सिंचाई में निवेश करने के साथ-साथ तेलंगाना का ‘रयथू बंधु योजना’ की तर्ज पर एकमुश्त रकम देने की दिशा में कदम उठाने की जरूरत है. इसी तरह, बिजली वितरण कंपनियों की समस्या का हल बेहतर मीटरिंग तथा बिजली उत्पादन के लिए स्वच्छ प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल और वितरण का विकेंद्रीकरण है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here