मोतिहारी: सिपाही ने युवकों से नौकरी के नाम पर ठगे लाखों रुपये

0
12
file photo

मोतिहारी। बिहार के मोतिहारी में एक सिपाही ने नौकरी के नाम पर कई युवकों से लाखों रुपये की धोखाधड़ी की। पीड़ितों की शिकायत पर छतौनी थाने में सिपाही के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है।

प्राप्‍त जानकारी के अनुसार जिला पुलिस बल में तैनात सिपाही किशोर कुणाल सिंह ने नौकरी के नाम पर कई युवकों से लाखों की ठगी की। सिपाही की ठगी के शिकार कुमूद रंजन ने उसके खिलाफ छतौनी थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई है। कोटवा थाने के भोपतपुर चौबे टोले के कुमूद के अनुसार वह आचरण बनवाने के लिए एसपी कार्यालय गया था। वहां सिपाही किशोर कुणाल सिंह ने उसे नौकरी दिलवाने का भरोसा दिया। जिसके बाद वह सिपाही के झांसे में आ गया और उसने कुणाल को सात लाख रुपये दे दिए। कुणाल ने इसके बाद उसे प्रशिक्षण के लिए मुंबई भेजा। बाद में वहां से बुलाकर बंगाल के गोविंदापुर भेज कर फायर प्रिर्वेशन एवं फायर फाइटिंग का प्रशिक्षण दिलवाया। प्रशिक्षण समाप्त होने पर कुणाल ने अपने ई-मेल से इनडोस सटिर्फिकेट भी भेजा।

प्रशिक्षण समाप्ति के बाद कुणाल ने मोतिहारी पुलिस कार्यालय के पत्रांक आर-55/17, दिनांक 10-7-17 से एक लेटर पुलिस वेरिफिकेशन के लिए कोटवा थाने में भी भिजवाया। कोटवा के थानाध्यक्ष सूर्य ज्योतिक कुमार पांडेय द्वारा उस पत्रका सत्यापन कराया गया था।

इसके बाद कुणाल ज्‍वाइनिंग लेटर के नाम पर टालमटोल करता रहा। जब कुणाल से पैसा वापस मांगा तो उसने 21 जुलाई, 2018 को पांच सौ के नन ज्यूडिशियल स्टांप पर हस्ताक्षर कर गवाहों के सामने कहा कि वह सात लाख रुपये नौ महीने की किस्तों में लौटा देगा। तब से कुणाल ने अब तक एक भी फूटी कौड़ी नहीं दी है।

जब कुणाल पर दबाव डाला गया तो उसने इलाहाबाद बैंक का सात लाख का चेक दिया। चेक को बैंक ऑफ इंडिया शाखा, बरियारपुर में डालने पर वह राशि के अभाव में चेक बाउंस कर गया। छतौनी इंस्पेक्टर मुकेशचंद्र कुमार के अनुसार प्राथमिकी दर्ज कर मामले की छानबीन की जा रही है।

बेतिया: चाकू के वार से घायल ठेकेदार की मौत, मामला दर्ज

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here