लालू बिहार में विपक्ष के डिसीजन मेकर भी और किंग मेकर भी, सब पहुंच रहे उनके दर

0
16

 

बिहार-झारखंड में महागठबंधन की राजनीति में लालू प्रसाद यादव का दबदबा

पटना/रांची : बिहार में राष्ट्रीय जनता दल अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ही लोकसभा चुनाव 2019 के लिए विपक्ष के सारे बड़े फैसले लेंगे. राष्ट्रीय जनता दल यूं भी बिहार की सबसे बड़ी पार्टी है और सूबे में कांग्रेस, रालोसपा एवं हम पार्टी को उनके नेतृत्व में ही चुनाव लड़ना होगा. राबड़ी देवी की अध्यक्षता में राजद संसदीय बोर्ड की बैठक में सारे अहम फैसलों के लिए लालू प्रसाद यादव को अधिकृत कर दिया गया है. लालू प्रसाद यादव राजद का तो उम्मीदवार चुनेंगे ही, सहयोगी दलों के जीतने योग्य उम्मीदवार चुनने में उनका हस्तक्षेप रहेगा. उनकी जमीनी समझ व पकड़ पर किसी भी सहयोगी पार्टी को एतराज नहीं है और सभी उसका लोहा ही मानते हैं.

लालू प्रसाद यादव को सारे अधिकार सौंपे जाने से तेजस्वी यादव एवं तेज प्रताप यादव में अपने-अपने आदमी को टिकट दिलवाने की प्रतिस्पर्धा भी खत्म हो जाएगी. ध्यान रहे कि तेज प्रताप यादव ने पिछले दिनों अपने समर्थकों से कहा था कि वे युवाओं को टिकट दिलाएंगे.

वहीं, रांची में रिम्स में इलाज करा रहे लालू प्रसाद यादव से चुनावी साल में लगातार हर बड़े-छोटे नेता के मिलने का दौर जारी है. शनिवार को उनसे लोकतांत्रिक जनता दल के प्रमुख शरद यादव ने मुलाकात की. उनके साथ सीपीआइ के पूर्व सांसद भुवनेश्वर मेहता भी थे. लालू प्रसाद यादव से कांग्रेस व झामुमो के प्रमुख नेता भी लगातार जेल में मुलाकात करते रहते हैं. लालू का हस्तक्षेप झारखंड में भी विपक्ष की सीट शेयरिंग व टिकट बंटवारे में दिख चुका है. अब वे बिहार में सीट बंटवारे का फार्मूला व उम्मीदवार तय करेंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here